जब आपने शेरवानी के साथ स्पोर्ट्स शूज पहने हो

खुश हुआ करते थे कभी पडोसन की मुस्कान देखकर।
कमबख्त मास्क ने वो खुशी भी छीन ली।
एक पड़ोसी टिड्डी भेज रहा है। एक पड़ोसी कोरोना भेज रहा और लद्दाख में टेंट भी गाड़ रहा है। एक पड़ोसी मन मर्जी के नक्शे छाप रहा है।
श्रीलंका, भाई तु क्यो शरमा रहा है। आजा तू भी रावण कि मौत का बदला लेले।
में : बड़ा आदमी बनना है तो रिस्क उठाना पड़ेगा।
माँ : हरामखोर पहले ये चप्पल उठा और साईड में रख अभी पोछा लगाया है।
टॉयलेट के बहाने जो बच्चे पुरी स्कूल की ख़बर ले आते हैं कि
"कौन सी क्लास में क्या हो रहा हैं..."
वे ही बच्चे आगे चलकर रॉ के एजेंट" बनते हैं।
"भीड़ में खड़ा होना मकसद नही है मेरा, मै तो वो बनना चाहता हूं जिसके लिए भीड़ खड़ी हो"।
 
यहां कवि ...खुद का "ठेका" खोलना चाह रहा है।
भारतीयों को आखिरकार अहसास हुआ कि कोरोना घर पर बैठ कर नहीं मरेगा।
उसे बाहर निकल कर, भीड़ में घेर कर ही मारना होगा।
बीबी का ताने मारना एक कला है। पर उन्हें सुनकर, न सुनने की जो एक्टिंग पति करते हैँ। वो उससे भी बड़ी कला है।

मैं अपनी बारात में सारे बुढ्ढे ही ले जाऊंगा, ताकि वहां की लडकीयां सजी की सजी रह जाए।


आप को सबसे ज्यादा किस की पोस्ट पसंद है
 
मेरी....
फिर मेरी....
या सिर्फ मेरी....
 
जवाब देते वक्त किसी से मत डरना में आप के साथ हूँ।